Blockchain क्या है और ये कैसे काम करता है?

Blockchain क्या है और ये कैसे काम करता है?

Blockchain एक public ledger (खता) है जिसमे सभी transaction के records store रहते है और उन records को blocks कहा जाता है ये blocks cryptography की मदद से एक साथ एक ही list में linked रहते है जिसके कारन ये एक chain form करते है इसी को हम blockchain कहते है 

Block और Chain (Blockchain)

Blockchain दो words से मिलके बना होता है Block और  Chain Block यानि Transaction का एक  record और chain यानि बहुत सारे जो एक साथ linked है यानि अगर दोनों को मिला दे तो बनता है बहुत सारे block जो एक साथ linked है इसी को हम blockchain कहते है

Blockchain Kya hai Hindi

Blockchain के प्रकार 

Public blockchains

इस type के blockchain public के लिए होती है यानि इसमें transaction का verification कोई भी कर सकता है और इसका ledger publically available होता है और  ये decentralized होते है।

Private blockchains

इस प्रकार का blockchain में transaction का verification कुछ selected लोग करते है जैसे कोई एक business के लोग  और ज्यादातर cases में ledger को देखने का right सिर्फ उस business  के पास होता है और  ये centralized होते है।

Terms जो Blockchain में Use किये जाते है 

Nodes – ये blockchain network के वो device है जो  transaction को process करते है और data का copy रखते है 

Mining – Public ledger में Transaction को add करना 

Block – एक single transaction record.

Decentralized – जो पूरी दुन्या में फेला हुआ है

Cryptography – information को encrypt करना ताकि कोई third party उस information को ना समझ पाए

Decentralized और Complex Encryption

Blockchain decentralized होता है यानि इसे कोई single institution जैसे Bank, Government control नही करती। इसके records पुरे दुन्या के individuals जो blockchain के लिए computing power दे रहे होते है उनके पास stored रहते है यानि कोई information किसी single institution के पास ना होकर पूरी दुन्या में फैला होता है और  complex encryption (Cryptography) की वजह से  ये  records बिलकुल secure रहता है और blockchain के records को manipulate या change करना नामुमकिन(Impossible) के करीब है।

Consensus 

ये एक protocol(Rule) है जिसको follow करके blockchain का ledger(खता) update होता है। Blockchain के ledger में कोई भी transaction add होने से पहले उस transaction को multiple computers के द्वार verify किया जाता है। ये सारे computer ये ध्यान में रखते है की वो transaction एक valid transaction है और जब verify हो जाता है तब उसे blockchain में add किया जाता है। जब भी blockchain में कोई नया block(record) add होता है तब उसे उससे पीछे वाले block(record) के साथ link किया जता है और इसके लिए cryptographic hash का उपयोग किया जाता है जो उसके पीछे वाले block के satisfy होने पर  generate होता है।

Blockchain के उपयोग 

1. Cryptocurrency 

ये एक digital currency  है जो security के लिए cryptography का use करती है और एक दुसरे के बिच  transfer के लिए public and private key का उपयोग करती है

जैसे Bitcoin, Litecoin, Ethereum.

2. File Storage

Blockchain का उपयोग file storage के लिए करके हम data को secure रखा जा सकता है

3. Ownership transfer of Property

Property की ownership transfer करना आसान हो जायेगा क्युकी blockchain paperwork को eliminate कर देगा

4. Internet of Things (IOT)

Blockchain ledger Internet of Things (IOT) के चीजों को एक दुसरे के साथ cryptographic hash के help से link करेगा और data को secure रखेगा

निष्कर्ष 

Blockchain एक बहुत ही powerful technology है जो हमारे काम करने के तरीके को बदल देगी इसकी मदद से हमारा  data secure रहेगा। ये पूरी तरीके से Central Authority (Bank),third party(Brockers)  को remove कर देगी। Blockchain के कारन paperwork हट जायेगा और काम की speed बढ़ जायगी। सबसे जरुरी बात blockchain एक open source technology है यानि इसका उपयोग कोई भी और किसी भी काम के लिए कर सकता है।

  • आविष्कारक एक हिंदी वेबसाइट है जिसमे हम इनफार्मेशन को सरल भाषा में शेयर करते है जिससे की लोगो को समझने में आसानी हो हम इश वेबसाइट में टेक्नोलॉजी , साइंस, बिज़नेस से रिलेटेड इनफार्मेशन शेयर करते है

Leave a Reply

Your email address will not be published.