ROM ( Read-only memory ) क्या है?

ROM ( Read-only memory ) क्या है?

ROM (Read-only memory) Computer का एक memory है जो data को permanently store करता है और इसमें  Computer Program या Software या  Firmware stored रहता है जिसे हम BIOS (Basic Input/Output System) भी कहते है  और ये  computer को On (Booting) करने के लिए जरुरी होता है। ROM में stored data को हम change नही कर सकते बस इसे read कर सकते है और ये बिना power supply के भी data को retain कर सकता है। 

Note: कुछ प्रकार के ROM में stored data को हम change कर सकते है पर उसके लिए हमें कुछ special Equipment की जरुरत होती है और ये changing या Reprogramming process काफी ज्यादा slow होता है और बस Limited number of Time ही ये possible हो पता है।  

ROM के प्रकार

1. MROM (Masked ROM)

MROM में जो Computer Program या Software या  Firmware stored रहता है उसे Manufacturer store करता है और एक बार stored हो जाने के बाद इसके data को ना तो delete और Reprogram नही  किया जा सकता है।

2. PROM (Programmable ROM)

PROM को खुद User या  Programmer अपने हिसाब से Program करता है और एक बार Program हो जाने के बाद इसके data को delete और modify नही कर सकते। 

3. EPROM (Erasable and Programmable ROM)

EPROM के data को Erase भी कर सकते है और इसे Limited number of time Reprogram भी कर सकते है। इसमें stored data को erase करने के लिए UV Rays का उपयोग किया जाता है।

4. EEPROM (Electrically Erasable and Programmable ROM)

EEPROM के  Data को Electrically Erase और Limited number of time Reprogram किया जा सकता है और इसके लिए Electrical Signals का उपयोग किया जाता है EEPROM में stored data को erase करने के लिए हमें इसे  Computer System से नही निकालना परता है।  

  • आविष्कारक एक हिंदी वेबसाइट है जिसमे हम इनफार्मेशन को सरल भाषा में शेयर करते है जिससे की लोगो को समझने में आसानी हो हम इश वेबसाइट में टेक्नोलॉजी , साइंस, बिज़नेस से रिलेटेड इनफार्मेशन शेयर करते है

Leave a Reply

Your email address will not be published.