Cloud Computing क्या है?

Cloud Computing क्या है?

जब हम Server में Computing, data को store, change और उसे access करते है तो उसी को हम cloud computing कहते हैं ये हमें different Software, storage और infrastructure provide करता है यानि हमें अपने local कंप्यूटर में कोई भी Software को install, storage का extension, hardware को upgrade करने की जरुरत नही परती। हम Cloud Computing के help से internet के through computing करते है।

Cloud Computing In Hindi

Cloud Computing के प्रकार

Public cloud

इस type का  cloud public के लिए होता है। इसे इन्टरनेट से कोई  भी access कर सकता है और इसे third party manage करता है।

Private cloud

इस type का cloud private होती है यानि इसे सिर्फ कोई individual या single company access कर सकती है।

Hybrid cloud

Public और Private cloud का combination ही hybrid cloud होता है। इसमें personal काम private cloud में होता है और non-personal काम public cloud मे होता है।

Services जो Cloud Computing Provide करता है

Infrastructure as a service (IaaS)

इस type के cloud service हमें infrastructure provide करता है जैसे storage, operating systems, networks, servers, virtual machines और इसे हम इन्टरनेट के through manage करते है। इसे हम कभी भी uses के मुताबिक scale-up और down कर सकते है। इस type के service की वजह से हमें कोई भी अपना खुद का datacenter या infrastructure setup करने की जरुरत नही परती Infrastructure as a service(IaaS) में  cloud provider infrastructure को manage करता है और हम उसमे install, configure और अपने खुद के software जैसे Operating system या application खुद install और manage करते है।

उदहारण – Amazon Web Service(AWS), Microsoft Azure, Google Cloud Platform

Platform as a service (PaaS)

इसमें हमें Development tools मिलते है PaaS की वजह से हमें Development tools खरीदने  की जरुरत नही परती licence हमें खुद cloud provider provide करता  है। हम इसमें अपने application और service manage करते है। Infrastructure और Development tools cloud provider खुद manage करता है।

उदहारण – Google App Engine

Software as a service (SaaS)

SaaS user को cloud Based application को use करने को allow करता है इसमें हम cloud applications को rent में लेते है और इन्टरनेट के through उसे use करते है। इसमें cloud provider infrastructure और web application  दोनो  manage करता है।

उदहारण – SalesForce, Gmail

Cloud Computing के फायदे

1. No Local Software, Hardware, Infrastructure Required

हमें कोई भी Installation Local कंप्यूटर में  नही करना परता। जो भी Installation होंगे हो cloud में होंगे। हमें बस एक Web Browser की जरुरत होती है। हम cloud में कोई भी OS या software  कुछ clicks में install कर सकते है, कोई भी hardware include कर सकते है और कभी भी Infrastructure को बड़ा सकते है।

2. High Speed

कुछ ही second में हम कोई भी software, hardware या infrastructure install कर सकते है।

3. Back-up and restore data Become Easier

हमारे data को backup या restore करना आसान हो जाता है हम कभी भी इसे कर सकते है।

4. Reliability

ये काफी Reliable होता है यानि ये Constantly 24×7 good performance देता है।

5. Pay Per Use

हमें इसमें Resource के uses के हिसाब से pay करना परता है यानि हमें  extra charge pay नही करना परता।

6. Scalable

हम कभी भी infrastructure को scale (बड़ा) सकते है। हमें बस कुछ clicks करने की जरुरत होती है।

7. Powerful Tools

Cloud computing platform हमें powerful tools provide करता है जिसकी मदद से हम कोई भी complex task को आसानी से कर सकते है।

8. Decentralized

Cloud में stored हमारा data decentralized होता है यानि अगर कोई एक location की server में problem आ भी गयी तब भी हम उस data को access कर सकते है क्युकी उसी data का copy अलग location के server में भी होता है।

निष्कर्ष

किसी Network के through computing करने को ही हम cloud computing कहते है। ये network global network(internet) भी हो सकता है और local network (LAN) भी। Cloud Computing में storage, web application, infrastructure सामिल है।

  • आविष्कारक एक हिंदी वेबसाइट है जिसमे हम इनफार्मेशन को सरल भाषा में शेयर करते है जिससे की लोगो को समझने में आसानी हो हम इश वेबसाइट में टेक्नोलॉजी , साइंस, बिज़नेस से रिलेटेड इनफार्मेशन शेयर करते है

Leave a Reply

Your email address will not be published.