Web Hosting क्या है?

Web Hosting क्या है?

Web Hosting एक service है जो individual या business को उनका Website Web में store करने में मदद करती है ताकि उनका website को लोग easily access कर सके। जो company Web Hosting provide करती  है उसे हम Web Host कहते है। 

Terms जो Web Hosting में use होते है

1. Domain Name

ये एक human-readable name होता है (Eg: google.com) जिसके मदद से लोग website में visit करते है। Domain name को workable बनाने के लिए इसे web host के IP address से connect करना परता है। जोकि हम DNS (Domain Name System) में host records add करके या web host का  Name server add करके कर सकते है।

2. IP Address

IP एक unique address है जो website की location find करने में मदद करता है।  

3. Server

ये एक hardware या software हे जो user से request लेता है और उनके द्वार requested data उन्हें भेजता है।  

4. Client

ये एक hardware या software होता है जो हमें server को request भेजने में मदद करता है।  जैसे Web Browser। 

5. Web Space

Web hosting के Storage capacity को ही हम Web Space कहते है।  

6. Bandwidth

Bandwidth यानि  एक particular time period में आप कितना data transfer कर सकते है। 

Web Hosting के प्रकार

1. Shared web hosting

इस type के Web Hosting में एक Server में बहुत सारे website store किये जाते है और वो websites same server resource को शेयर करते है। Shared Web Hosting में हमें server का root access(Admin Access) नही मिलता है। 

2. Virtual Private Server (VPS)

VPS में एक server में multiple websites होते है पर उनके server resource को divide किया जाता है। VPS में हमें हमारे server resource का root access मिलता है।  

3. Dedicated Web Hosting

इस type के web hosting में user को पूरा server मिलता है जिसमे वो अपने मर्जी से single या multiple website को host कर सकता है।  इसके साथ user को server का root access भी मिलता है।

4. Cloud Web Hosting

Cloud web hosting में user को decentralized server मिलता है यानि उसका data multiple server में store होता है। ये  जिसकी वजह से अगर एक server down हो भी जाता है तोह दुसरे server से data retrieve हो जाता है। इस type के web hosting में user को resource uses के हिसाब से pay करना परता है और ये highly scalable होता है।   

5. Managed Hosting

इस type के web hosting में user को full server मिलता है पर Server provider उसके behalf में उस server को manage करता है। 

6. Colocation Hosting

इस type के web hosting में user को data center में physical space में infrastructure भी  मिलता है और user खुद इसे manage करता है।  

7. Clustered Web Hosting

Clustered Web Hosting में  एक ही data multiple server में होता है जो website का traffic load को control करने में मदद करता है। इस type के web hosting में website down होने का बहुत कम chance होता है। 

8. Home Server Hosting

अब हम अपने website को अपने घर से ही hosting करते है तो हम उसे home server hosting कहते है। इस type का web hosting को manage करना बहुत मुस्किल होता है और बहुत expensive होता है। 

9. Reseller Web Hosting

इस web hosting में user को अपने server का resource को resell करने का right मिलता होता है। 

Web Hosting कैसे काम करती है? 

जब कोई user Web Browser के through website का URL type करता है तब browser वो request Web Host के पास भेजती है जिसमे वो website store है।  फिर web host उस request को accept करके requested data browser के पास भेजती है और वही data हमें web browser में दिखता है। 

  • आविष्कारक एक हिंदी वेबसाइट है जिसमे हम इनफार्मेशन को सरल भाषा में शेयर करते है जिससे की लोगो को समझने में आसानी हो हम इश वेबसाइट में टेक्नोलॉजी , साइंस, बिज़नेस से रिलेटेड इनफार्मेशन शेयर करते है

Leave a Reply

Your email address will not be published.